भारत के 5 सबसे खूबसूरत गुरुद्वारे

15वीं सदी में भारत में, बहादुरी, उदारता और समानता पर आधारित एक धर्म उभर कर सामने आया, ‘सिख धर्म’. शब्द ‘गुरुद्वारा’ का मतलब होता है गुरू तक पहुँचने का द्वार. गुरुद्वारों में ‘गुरू ग्रन्थ साहिब जी’ की पूजा की जाती है. सिखों में ऐसा माना जाता है कि गुरू मोक्षप्राप्ति में हमारी मदद करते हैं.

भारत के 5 सबसे खूबसूरत गुरुद्वारे :

1. गुरुद्वारा हरमिंदर साहिब सिंह, पंजाब :-

‘गुरुद्वारा हरमिंदर साहिब सिंह’ को ‘श्री दरबार साहिब’ और ‘स्वर्ण मंदिर’ भी कहते हैं. गुरुद्वारे को बचाने के लिए महाराजा रणजीत सिंह जी ने गुरुद्वारे का ऊपरी हिस्सा सोने से ढँक दिया. इसलिए इसे स्वर्ण मंदिर का नाम भी दिया गया है. यह अमृतसर, पंजाब में स्थित है.

2. गुरुद्वारा श्री हेमकुन्ट साहिब, उत्तराखंड :-

गुरुद्वारा श्री हेमकुन्ट साहिब उत्तराखंड के चमोली जिले में स्थित है. यह गुरुद्वारा समुद्र स्तर से 4000 मीटर की ऊंचाई पर है. यह गुरुद्वारा अक्टूबर से लेकर अप्रैल तक बंद रहता है. श्री हेमकुन्ट साहिब अपनी वास्तु कला के लिए काफी प्रसिद्ध है.

3. गुरुद्वारा श्री केस्घर साहिब, पंजाब :-

गुरुद्वारा श्री केश्घर साहिब, पंजाब के आनंदपुर शहर में स्थित है. आनंदपुर शहर सिखों के 9वे गुरू तेग बहादुर जी ने स्थापित किया था. यह गुरुद्वारा 5 तख्तों में से एक है और इसलिए इस गुरुद्वारे की एहमियत और भी ज़्यादा है.

4. तखत सचखंड श्री हजूर साहिब अब्चालनगर साहिब गुरुद्वारा, महाराष्ट्र :-

यह गुरुद्वारा भी 5 तख्तों में से एक है. श्री हजूर साहिब महाराष्ट्र के नांदेड में स्थित है. ऐसा कहते हैं की यह वह जगह है जहां गुरू गोबिंद सिंह जी ने अपनी आखिरी सांस ली थी. महाराज रणजीत सिंह जी ने सन 1832 में इस गुरुद्वारे को बनवाया.

5. गुरुद्वारा मंडी, हिमाचल प्रदेश :-

गुरुद्वारे का नाम गुरुद्वारा गुरु गोबिंद सिंह जी है. यह हिमाचल प्रदेश के मंडी में स्थित है. यह गुरुद्वारा, गुरू गोबिंद सिंह जी द्वारा मंडी के राजा को दिए गए आश्वासन का प्रतीक है. इस गुरुद्वारे को सिख सम्प्रदाय में काफी मान्यता प्राप्त है.

Book Holiday Packages

Advertisement